Home Latest मैट्रो अस्पताल वर्ल्ड स्ट्रोक ऑर्गेनाइजेशन के प्लेटिनम पुरस्कार से सम्मानित

मैट्रो अस्पताल वर्ल्ड स्ट्रोक ऑर्गेनाइजेशन के प्लेटिनम पुरस्कार से सम्मानित

62
0
SHARE

मेट्रो अस्पताल, नोएडा को अपने न्युरो साइंसेस विभाग द्वारा प्रस्तुत किए गए तकनीकी कौशल, सफल उपचार की प्रक्रियाओं और दक्ष रोगी सेवाओं के लिए इस प्रतिष्ठित पुरूस्कार से सम्मानित किया गया।
नोएडा.विश्व स्ट्रोक संगठन, स्विटजरलैंड के जिनेवा स्थित वैश्विक निकाय ने मेट्रो सेंटर फॉर न्युरोसाइंसेस, मेट्रो अस्पताल, नोएडा को स्ट्रोक के मरीजों की देखभाल के लिए उच्चतम गुणवत्ता की सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए प्लेटिनम पुरूस्कार से सम्मानित किया है। इस प्रतिष्ठित पुरूस्कार से सम्मानित होने वाला यह उत्तर प्रदेश का एकमात्र और भारत का चौथा अस्पताल है।
मेट्रो अस्पताल नोएडा के न्युरोसाइंसेस के मेट्रो सेंटर की निदेशक और वरिष्ठ सलाहकार, डॉ. सोनिया लाल गुप्ता ने स्ट्रोक के प्रभाव की व्याख्या करते हुए कहा, “स्ट्रोक विश्वभर में मृत्यु और विकलांगता का दूसरा प्रमुख कारण है और प्रतिवर्ष स्वस्थ्य जीवन के ग्यारह करोड़ साठ लाख वर्ष बर्बाद करने का जिम्मेदार है। व्यक्तियों, परिवारों और समाज पर इसके प्रभाव का अनुमान लगाना संभव नहीं है। इस वर्ष एक करोड़ तीस लाख से अधिक लोग इसके शिकार होंगे और इसके परिणामस्वरूप लगभग पचपन लाख लोग अपनी जान गंवा देंगे। स्ट्रोक के विभिन्न अल्पकालिक और दीर्घकालिक प्रभाव हो सकते हैं, जो इस बात पर निर्भर करते हैं कि मस्तिष्क का कौनसा भाग प्रभावित हुआ है और कितनी जल्दी उपचार किया गया।”
डॉ. सोनिया ने कहा, “अथेरोस्क्लेरोसिस, स्ट्रोक की चपेट में आने के सबसे प्रमुख कारणों में से एक है। स्ट्रोक के मामले उम्र बढ़ने के साथ काफी बढ़ जाते हैं। इसके अलावा कईं और कारक भी हैं जो जोखिम बढ़ा देते हैं, उनमें सम्मिलित हैं; तंबाकू का सेवन, शारीरिक निष्क्रियता, अस्वास्थ्यकर आहार, शराब का अत्यधिक सेवन, उच्च रक्तचाप, एट्रियल फैब्रिलेशन, रक्त में लिपिड का उच्च स्तर, मोटापा, पुरूष होना तथा अनुवांशिक और मनोवैज्ञानिक कारक।
स्ट्रोक के कारणों पर चर्चा करते हुए मेट्रो अस्पताल, नोएडा के न्युरोलॉजी के वरिष्ठ सलाहकार, डॉ. कपिल सिंघल, ने कहा, “स्ट्रोक एक ऐसी स्थिति है, जहां मस्तिष्क को रक्त की आपूर्ति बाधित होती है, जिसके परिणामस्वरूप ऑक्सीजन की कमी के कारण मस्तिष्क क्षतिग्रस्त हो जाता है और अपने निर्धारित कार्य नहीं कर पाता है। यह अक्सर मस्तिष्क में रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनी में थक्का जमने के कारण होता है, इस स्थिति को इस्चेमिया/इस्किमिया कहते हैं। यह रक्तस्त्राव के कारण भी हो सकता है, जब एक नलिका के फटने से मस्तिष्क में रक्त लीक हो जाता है। स्ट्रोक से स्थायी क्षति हो सकती है, जिसमें आंशिक पक्षाघात, बोलने और समझने में समस्या होना और याद्दाश्त खराब होना सम्मिलित हैं। मस्तिष्क का कौनसा भाग क्षतिग्रस्त हुआ है और कितना क्षतिग्रस्त हुआ है, स्ट्रोक की गंभीरता निर्धारित करता है; जो न्यूनतम से लेकर भयावह हो सकती है।”
डॉ. कपिल ने आगे कहा, “स्ट्रोक पहले ही महामारी के अनुपात तक पहुंच चुका है। वेश्विक स्तर पर 25 साल से अधिक उम्र के प्रत्येक चार में से एक व्यस्क को अपने जीवनकाल में स्ट्रोक होगा। इस वर्ष विश्वभर में एक करोड़ सैंतीस लाख लोगों पहली बार स्ट्रोक की चपेट में आएंगे और इसके परिणामस्वरूप पचपन लाख लोग अपनी जान गंवा देंगे। मौजूदा रूझान बताते हैं कि अगर समय रहते उचित उपचार उपलब्ध न कराया गया तो इसके कारण प्रतिवर्ष मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर सढ़सठ लाख हो जाएगा।”
विश्व स्ट्रोक संगठन के बारे में
विश्व स्ट्रोक संगठन (डब्ल्युएसओ), एक वैश्विक निकाय/ संगठन है जो स्विटज़रलैंड के जिनेवा में स्थित है। यह विश्वभर में पचपन हजार से अधिक संगठनों और स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोगों को अनुसंधान आधारित दिशा-निर्देश प्रदान करके स्ट्रोक की रोकथाम और उपचार के मानकों को बेहतर मनाने के लिए प्रतिबद्ध है। डब्ल्युएसओ, स्ट्रोक के उपचार से प्राप्त परिणामों में सुधार करने के लिए भी प्रतिबद्ध है, यह सुनिश्चित करके की विश्वभर में स्ट्रोक के मरीजों तक बेहतर उपचार और देखभाल की सुविधाओं की पहुंच हो, ताकि उनके जीवन बचाने और ठीक होने की संभावनाओं को बढ़ाया जा सके।

स्ट्रोक और पक्षाघात के मरीजों को दी जाने वाली सुविधाओं और उपचार के आधार पर विश्व स्ट्रोक संगठन अस्पतालों को ग्रेडिंग/श्रेणीकरण प्रदान करता है।
डब्ल्युएसओ विभिन्न मानदंडों पर अस्पतालों को आंकता है जैसे :
• उपचार के लिए प्रतिक्रिया समय।
• स्ट्रोक के मरीजों के लिए विशेष इकाईयों और आईसीयू उपचार की उपलब्धता।
• अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुसार मराजों को दिए जाने वाले उपचार की गुणवत्ता।
मेट्रो अस्पताल, नोएडा के बारे में
मेट्रो हॉस्पिटल एंड हार्ट इंस्टीट्यूट, नोएडा 317 बेड वाला एक सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल है, जो दो यूनिटों/इकाईयों के रूप में काम करता है – एक 110 बेड वाला मेट्रो हार्ट इंस्टीट्यूट और दूसरा 207 बेड वाला मेट्रो मल्टी सेपेशियलिटी हॉस्पिटल। यह दोनों एक दूसरे से दो सौ मीटर से भी कम दूरी पर स्थित हैं और यहां इन-पैशेंट/भर्ती किया हुआ मरीज, आउट-पैशेंट/ बाहरी मरीज और आपातकालीन सेवाओं के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर की विस्तृत सुविधाएं उपलब्ध हैं।
मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल की स्थापना 1998 में डॉ. पुरूषोत्तम लाल (अध्यक्ष – मेट्रो ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स) के नेतृत्व में, किफायती दामों/शूल्क पर तीस से अधिक विशिष्ताओं में व्यापक उपचार उपलब्ध कराने की दृष्टि से की गई थी।
अस्पताल में छह उत्कृष्टा केंद्र/ सेंटर ऑफ एक्सालेंस और अट्ठारह विशिष्ताएं/स्पेशियलिटी हैं, सभी का नेतृत्व प्रतिष्ठित सरकारी और निजी संस्थाओं के प्रसिद्ध पेशेवरों द्वारा किया जा रहा है। अस्पताल आधुनिक प्रौद्योगिकी और नवीनतम नैदानिकी से सुसज्जित है। इसके साथ ही यहां सक्षम पेशेवर चिकित्सक और करूणामय सहयोगी कर्मचारी हैं।

अस्पताल एनएबीएच और एनएबीएल द्वारा मान्यता प्राप्त और आईएसओ द्वारा प्रमाणित है। अस्पताल पूरी तरह से वातानुकूलित है और हमारे मरीजों के लिए आरामदायक रूप से रहने और स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए सभी सुविधाओं से सुसज्जित है।

LEAVE A REPLY