Home Big Grid गर्भावस्था में महिलाएं न करें सेक्स, न खायें मीट की सलाह पर...

गर्भावस्था में महिलाएं न करें सेक्स, न खायें मीट की सलाह पर उठा विवाद

825
0
SHARE

बीडीएन,डेस्क

स्वस्थ बच्चा पैदा करने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा जारी किये गये परामर्श को लेकर विवाद पैदा हो गया है. आयुष मंत्रालय द्वारा यह सलाह दी गयी है कि गर्भावस्था में महिलाएं न तो सेक्स करें और  न ही मीट खायें. भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा जारी इस बुकलेट में सलाह दी गई है कि गर्भवती महिलाएं गर्भावस्था के दौरान शारीरिक संबंध बनाने और मांस का सेवन करने से परहेज करें. इसमें यह भी कहा गया है कि इस दौरान उनको बुरी संगतों से भी दूर रहना चाहिए और मन में आध्यात्मिक विचार लाने चाहिए.  हलाकि आयुष मंत्रालय की इस परामर्श पर चिकित्सकों की अलग-अलग राय है. पटना के महिला एवं प्रसव रोग विशेषज्ञों की माने तो गर्भावस्था में मांस के सेवन से कोई दिक्कत नहीं होती. इसमें प्रोटीन और आयरन मिलता है. अगर गर्भावस्था में कोई दिक्कत ना हो तो सेक्स करने में भी कोई बुराई नहीं होती. बुकलेट में सुझाव दिया गया है कि महिलाएं गर्भावस्था के दौरान महान लोगों की कहानियां सुने, वह किसी पर गुस्सा न करें, सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन योगा एंड नेचुरोपैथी की मदर एंड चाइल्ड केयर नाम की बुकलेट को हाल ही में आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने जारी किया. काउंसिल के डायरेक्टर डॉक्टर ईश्वर आचार्य का कहना है कि इस बुकलेट में गर्भवती महिलाओं को योग आहार और दैनिक दिनचर्या के बारे में कई सुझाव दिए गए हैं. यह सुझाव बाध्यकारी नहीं है जिनको यह पसंद आए वह इन सुझाव पर अमल कर सकते हैं. इस बुकलेट में यह भी कहा गया है कि गर्भावस्था के दौरान महिलाएं आध्यात्मिक पुस्तकें पढ़नी चाहिए. मन को शांत रखें महापुरुषों की जीवनी का अध्ययन करें . गर्भवती महिला को अपने बेडरूम में अच्छे चित्र लगाने चाहिए और क्रोध से दूर रहना चाहिए. गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के दिनचर्या और डाइट कैसे होने चाहिए इसकी भी इस बुकलेट में जानकारी दी गई है. साथ ही यह भी नसीहत दिया गया है कि गर्भावस्था के दौरान कौन कौन से योगासन और प्राणायाम करने चाहिए और कौन से योगासन और प्राणायाम नहीं करना चाहिए.

LEAVE A REPLY