Home एक्सक्लुसिव आतंकी शमशुल ने खोले कई राज

आतंकी शमशुल ने खोले कई राज

810
0
SHARE

विजय कुमार, रक्सौल

दुबई से गिरफ्तार किए गए कानपुर रेल हादसे के मास्टरमाइंड और आईएसआई एजेंट शमसुल होदा ने नेपाल पुलिस के सामने कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।होदा ने नेपाल पुलिस को बताया कि भारत में रेल हादसों की साजिश रचने के लिए उसे पाकिस्तान से निर्देश मिले थे और ग्रामीण इलाके के अपराधियों को इस संगठित अपराध से जोड़ने के निर्देश थे जिसपर जल्दी कोई सुरक्षा एजेंसी शक नही कर सके।इसके लिए पूर्व नक्सली व अपराधी जगत के नवोदित अपराधियों को जोड़ा गया तथा इसके लिए कुछ नव सीखिये तस्कर भी टारगेट किये जो लोभ वष इस कार्य को अंजाम देने की हामी भरी।बावजूद,वे घोड़ासहन बम कांड को अंजाम नही दे सके।अगर घटना को अंजाम दे देते तो इस मामले का खुलाशा करने में शायद ही पुलिस कामयाब होती।कथित तौर पर निर्दोष कहे जाने वाले अरुण राम व उसके भतीजा दीपक राम की हत्या ने ही आतंक के इस बड़े राज को उजागर करने में एक कड़ी का काम किया।आतंकी हमलों की कलई खोलते हुए होदा ने बताया कि भारत में आतंक फैलाने के लिए पाकिस्तान से उसे लगातार निर्देश मिल रहे थे।उसने बताया, भारत में खासकर बिहार में ट्रेनों और रेलवे स्टेशनों को निशाना बनाया जाना था।रेल पटरियों पर धमाकों की साजिश के बारे में भी उसने कई चौंकाने वाले खुलासे किए।

होदा ने बताया, उसे रेल की पटरियों को बम धमाकों से उड़ाकर ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाने का आदेश मिला था।शमसुल होदा ने पुलिस से कहा आतंक के इस खेल में मुझसे भी कई बड़े-बड़े लोग शामिल हैं।इस दौरान उसने पाकिस्तान के साथ अपने संबंधों पर भी खुलकर बात की।गौरतलब है कि पिछले साल कानपुर में हुए रेल हादसे में तकरीबन 140 लोग मारे गए थे।वहीं दर्जनों लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए थे।इस रेल हादसे में नेपाल मूल के आईएसआई एजेंट शमसुल होदा का नाम सामने आया था।होदा नेपाल से चुनाव भी लड़ चुका है और उसका नेपाल में एक रेडियो स्टेशन भी है।

कानपुर रेल हादसे के बाद भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने होदा को पकड़ने की कवायद तेज कर दी थी।सुरक्षा एजेंसियों की कोशिश रंग लाई और दुबई से शमसुल होदा को गिरफ्तार कर लिया गया।बीते शनिवार होदा को दुबई से नेपाल लाया गया। इस बाबत बारा जिले(नेपाल) के एसपी नागेन्द्र प्रसाद उप्रेती ने पीसी में आतंक के मुख्य सूत्रधारों के गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए उक्त जानकारी साझा की,हालाँकि भारतीय खुफिया एजेंसी आईबी, रॉ और एनआईए की टीम पहले से ही नेपाल में मौजूद थीं।अब भी सुरक्षा एजेंसी इस नेटवर्क के असली सूत्रधारों की तलास में जुटी हुई है कि आखिर इतने बड़े आतंकवादी घटनाओं में इनकी संलिप्तता के और कौन-कौन सूत्रधार है।फिलवक्त,आतंक के गोपनीय व सुरक्षा मानकों के कई राज अभी भी नेपाल पुलिस खुलाशा करने से परहेज कर रही है।बावजूद,इस आतंकी कुकृत्यों के दर-परत-दर खुलाशे के बाद से आदापुर का सरहदी इलाका मादक पदार्थों,सोने-चाँदी के तस्करी के रास्ते अब आतंकवाद की राह पकड़ लिया है जिससे स्थानीय लोग भौंचक व हतप्रभ है,जिनके जेहन में अब इस इलाके व परिजनों के सुरक्षा की चिंता सताने लगी है।

LEAVE A REPLY